Benefits of green tea in hindi बेनिफिट ऑफ ग्रीन टी इन हिंदी

Benefits of green tea in hindi दोस्तो, आज कल की दुनिया मे हर एक व्यक्ति को फिट रहना बहुत जरूरी है। ग्रीन टी में ऐसे न्यूट्रिशन होते है जो हेल्थ से जुड़ी कई समस्याओं से आपको बचाते है। इसलिए डाइट एक्सपर्ट भी ग्रीन टी पीने की सलाह देते है। अगर आप फिटनेस के बारे में सोचते है ओर फिट रहने की कोशिश करते हैं, तो आपको ग्रीन टी जरूर पीना चाहिए। बीते कुछ सालों में ग्रीन टी की लोकप्रियता काफी बड़ी हुई है। वजन कम ( weight loss ) करने वालो की तो यह पसंदीदा टी है और इसके बहुत से अन्य लाभ भी है।

Benefits of green tea in hindi बेनिफिट ऑफ ग्रीन टी इन हिंदी – Green tea ke fayade

Benefits of green tea in hindi

बेनिफिट ऑफ ग्रीन टी इन हिंदी

इस आर्टिकल में हम बताएंगे Green tea in hindi :- 

  • Green tea ke fayade / Green tea peene ke fayde
  • Green tea kaise banaye / Green tea banane ki vidhi
  • Green tea banane ka tarika / Green tea kaise banate hain
  • Green tea kaise piye
  • Green tea ke nuksan

 

1. ग्रीन टी के फायदे – Green tea ke fayade – Benefits of green tea in hindi

दोस्तो, Green tea peene ke fayde बहुत सारे है यह शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी है। चलिए जानते है Green tea ke fayade क्या है?

1- ग्रीन टी वजन कम करने में मदद करने में मदद करती है।

2- ग्रीन टी पीने से शरीर के टॉक्सिन्स दूर होते है।

3- ग्रीन टी पीने से शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।

4- ग्रीन टी पीने से कोलेस्ट्रोल लेवल कम होता है।

5- ग्रीन टी पीने से दिमागी ताकत बढ़ती है।

6- ग्रीन टी में एन्टी-एजिंग एलिमेंट होते है जिसके वजह से चेहरे पर झुर्रियां नही पड़ती है।

7- ग्रीन टी दांतो की सेहत के लिए भी बहुत अच्छी होती है।

8- ग्रीन टी कैंसर जैसी गभीर बीमारी से भी बचाने में मदद करती है।

 

Also See : Munakka Khane Ke Fayde मुनक्का खाने के फायदे

 

2. ग्रीन टी पीते समय यह बातें ध्यान रखे – Green tea kaise piye

1- ग्रीन टी को कभी खाली पेट नही पीना चाहिए क्योंकि इसके अंदर कैफीन पाया जाता है। इस कारण इससे हाजमे की समस्या हो सकती है।

2- ग्रीन टी को एक दिन में तीन कप से ज्यादा नही पीना चाहिए क्योंकि इसमे कैफीन के ही वजह से एसिडिटी की समस्या हो सकती है।

3- ग्रीन टी को हमेशा खाने के एक घंटे के बाद ही पीना चाहिए क्योंकि यह शरीर मे आयरन के अवशोषित होने से रोकती है। इससे एनीमिया होने के समस्या हो सकती है।

4- रात में ग्रीन टी के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि कैफीन होने के कारण इससे नींद नही आने की समस्या हो सकती है।

5- ग्रीन टी को लंबे समय तक रखने से बचना चाहिए क्योकि छह महीनों तक रखे रहने से इसकी एन्टी-ओक्सिडेंट शक्ति कम हो जाती है।

 

  • ग्रीन टी कैसे पिए – Benefits of green tea in hindi

दोस्तो, कुछ लोग ग्रीन टी बनाते समय उसमे दूध और शक्कर मिला देते है पर यह ग्रीन टी बनाने का तरीका बिल्कुल नही है। ग्रीन टी में एन्टी-ओक्सिडेंट ओर थायोमीन दूध में मिलने वाले प्रोटीन के साथ मिलते है तो इससे हमारे शरीर पर इसका बुरा दुष्प्रभाव पड़ता है। जिससे ग्रीन टी के फायदे कई हद तक खत्म हो जाते है। दोस्तो, अगर आप ग्रीन टी के शक्कर की जगह शहद मिला सकते है शहद शरीर के लिए बहुत सेहतमंद भी है। क्योंकि शहद में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन पॉय जाता है। यह ग्रीन टी के साथ मिलकर शरीर के न्यूरॉन को पुनः जीवित करता है। फेट को बर्न करते है। 

 

3. ग्रीन टी कैसे बनाये – Green tea kaise banaye

दोस्तो, ग्रीन टी कैसे बनाते है यह एक बहुत महत्वपूर्ण चीज है। क्योंकि अगर आप सही तरीके से ग्रीन टी नही बनाएंगे तो आपको इसका कोई इफ़ेक्ट देखने नही मिलेगा। इसलिए चलिए दोस्तो, जानते है ग्रीन टी बनाने की विधि के बारे में –

  • green tea banane ka tarika

दोस्तों, ग्रीन टी बनाने के लिए आपको एक ओर एक से आधा कप पानी ले लेना है। फिर इस पानी को किसी भागोंने में डालकर अच्छे से उबाल लेना है। जब यह उबल जाए तब इस पानी को गैस पर से उतार लेना है और उसमें एक कप ग्रीन टी को मिला लेना है। और तीन से चार मिनट के लिए छोड़ देना है। तीन से चार मिनिट होने के बाद ग्रीन टी को छान लेना है। फिर आपकी ग्रीन टी तैयार हो जाएंगी। फिर आप ग्रीन टी का सेवन कर सकते है।

 

4. ग्रीन टी पीने के नुक्शान – Green tea ke nuksan

1- दोस्तो जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि ग्रीन टी में कैफीन पाया जाता है। कैफीन कॉफी में भी पाया जाता है पर कॉफ़ी के अपेक्षा ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा कम होती है। पर अगर कोई व्यक्ति बहुत अधिक मात्रा में ग्रीन टी का सेवन करता है तो फिर उसे कैफीन से संभदित समस्याए हो सकती है जैसे पेट दर्द, उल्टीया, दस्त, नींद न आना आदि।

2- कभी भी खाना खाने के बाद ग्रीन टी का सेवन नही करना चाहिए क्योंकि ग्रीन टी के कारण खाने से मिलने वाला प्रोटीन शरीर को नही मिलता जिसके कारण एनीमिया जैसी समस्या हो सकती है। इसलिए ग्रीन टी को सुबह के नाश्ते के आधा घण्टे के बाद और खाना खाने के आधे घंटे के बाद पीना चाहिए।

3- ग्रीन टी पीने से ओस्टियोपोरोसिस बीमारी होने का खतरा भी बढ़ जाता है। ऑस्टियोपोरोसिस वह बीमारी है जिसमें कैल्शियम की कमी के कारण हड्डियां कमजोर हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ग्रीन टी पीने से यूरिन के जरिए प्रोटीन जो शरीर से बाहर निकलता है उसकी मात्रा बढ़ जाती है। जिसके कारण प्रोटीन यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है जिससे ओस्टियोपोरोसिस की समस्या हो सकती है।

4- ग्रीन टी में ऑक्जेलिक एसिड होता है जिससे गुर्दे की पथरी हो सकती है। इसके अलावा ग्रीन टी में यूरिक एसिड, एमिनो एसिड, कैल्शियम और फोस्फेड भी पाये जाते है। यह सब ऑक्जेलिक एसिड के साथ मिलकर गुर्दे की पथरी का कारण बन सकता है।

5- ज्यादा मात्रा में ग्रीन टी पीने से भूख में कमी आती है ओर अगर भूख में कमी आती है तो आपकी भूख खत्म हो जाएगी और आप सही से भोजन नही करेंगे। भोजन सही नही करने के कारण शरीर मे पोषक तत्वों की कमी आ जाएगी। जो सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

6- ज्यादा मात्रा में ग्रीन टी पीने से पुरषो में टेस्टेरॉन हार्मोन की कमी आ जाती है। टेस्टेरॉन वह हार्मोन है जो पुरूषो को पुरुष बनाता है . जिसके कारण पुरषो के शरीर को काफी Green tea ke nuksan हो सकता है।

 

Note : Benefits of green tea in hindi

उम्मीद करते हैं आपको Benefits of green tea in hindi  के बारे में पढ़ कर मजा आया हो गा . यह लेख में हमने Green tea ke fayade और Green tea banane ka tarika के बारे में बताया है .  दोस्तों कमेंट सेक्शन में आप अपनी परेशानी वह सुझाव के बारे में जिक्र जरूर  जरूर करें . हमारा Homeopathic Treatments का ब्लॉक पढ़ने के लिए यहां click करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *